वैक्सिंग के विभिन्न प्रकार और उसके फायदे और नुकसान

वैक्सिंग बाल हटाने की एक पद्धति का नाम है। वैक्सिंग किये गए क्षेत्र में नए बाल २-९ हफ्तों के लिए वापस विकसित नहीं होते। शरीर पर आंख की भौहें, चेहरा, बिकनी पहनने का क्षेत्र, पीठ, पेट और पैर पर से बाल हटाये जाते हैं| विद्युत उपकरणों से अनचाहे बालों को हटाया जा सकता है|
http://e-makemebeautiful.blogspot.com/

कई वर्षों के लिए नियमित रूप से वैक्सिंग करने से स्थायी बालों की संख्या में कमी पायी जा सकती है। वैक्सिंग के  दौरान त्वचा पर मोम का मिश्रण लगाया जाता है। यह मिश्रण तौलिये से दबाया जाता है| फिर यह तौलिया खींचकर निकाला जाता है| इससे सभी बाल हटाये जाते हैं। जिनकी त्वचा संवेदनशील हो उन्हें विशेषज्ञ की मदद से वैक्सिंग कराना चाहिए|

वैक्सिंग के प्रकार

  • भौहों की वैक्सिंग
  • छाती की वैक्सिंग
  • घुटनों की वैक्सिंग
  • पैरों की वैक्सिंग
  • हाथों और काँखों की वैक्सिंग
  • पीठ की वैक्सिंग
  • ब्राजीलियन बिकिनी वैक्सिंग
  • पुरे शरीर की वैक्सिंग

वैक्सिंग के गुण

  • मुलायाम और अच्छे प्रति के बाल
  • लम्बे समय तक साफ़ और मुलायम रंध्र
  • नए बालों का विकास रुक जाता है
  • सस्ता होता है
  • त्वचा को कोई नुकसान नहीं होता
  • बालों की सेहत सुधरती है और त्वचा की मृत कोशिकाओं को हटाता है
  • सरल विधि और घर पर किये जानेवाली

वैक्सिंग के परिणाम

  • त्वचा में लाली
  • साफ़ उजली त्वचा
  • एलर्जी के लक्षण दिख सकते हैं
  • त्वचा का कसाव कम हो सकता है
  • लाल फोड़ी बन सकती हैं
  • त्वचा में जलन हो सकती है
  • त्वचा में इन्फेक्शन हो सकता है

No comments:

Post a Comment